teri murli ki dhun sunne main barsane se aayi hun

  teri murli ki dhun sunne main barsane se aayi hun


तेरी मुरली की धुन सुनने 

मैं बरसाने से आयी हूँ ।

मैं बरसाने से आयी हूँ, 

मैं वृषभानु की जाई हूँ ॥

अरे रसिया, ओ मन वासिय,

 मैं इतनी दूर से आयी हूँ ॥


सुना है श्याम मनमोहन, 

के माखन खूब चुराते हो ।

उन्हें माखन खिलने को मैं

 मटकी साथ लायी हूँ ॥


सुना है श्याम मनमोहन, 

के गौएँ खूब चरते हो ।

तेरे गौएँ चराने को मैं 

ग्वाले साथ लायी हूँ ॥


सुना है श्याम मनमोहन,

 के कृपा खूब करते हो ।

तेरी कृपा मैं पाने को

 तेरे दरबार आयी हूँ ॥


श्रेणीकृष्ण भजन

तेरी मुरली की धुन सुनने

 मैं बरसाने से आयी


teree muralee kee dhun

 sunane main barsaane se aayee hoon .

 main barasaane se aayee hoon, 

main vrshabhaanu kee jaee hoon .


 are rasiya, o man vaasiy,

 main itanee door se aayee hoon . 


suna hai shyaam manamohan,

 ke maakhan khoob churaate ho . 


unhen maakhan khilane ko 

main matakee saath laayee hoon .


 suna hai shyaam manamohan,

 ke gauen khoob charate ho . 


tere gauen charaane ko main

 gvaale saath laayee hoon . 


suna hai shyaam manamohan,

 ke krpa khoob karate ho . 


teree krpa main paane ko 

tere darabaar aayee hoon . 

और नया पुराने