-->

Yamuna Ke Tat Pe Aana Lyrics Hindi यमुना के तट पे आना

Yamuna Ke Tat Pe Aana Lyrics Hindi  यमुना के तट पे आना । कृष्ण भक्ति गीत । कृष्ण भजन संग्रह। Super Hit Krishan Bhajan.  यमुना के तट पे आना  यमुना  के  तट  पे  आना भजन - शयाम आन  बसों  वृंदावन  में  एल्बम में से लिया गया है, जिसे मधुर कला ने अपनी मधुर आवाज़ में गाया है।


Bhajan जमुना के तट पे आना मुरली की धुन सुनाना
Singer Rakesh kala
Lyrics Chandan Tilak
Music Sonotek


Yamuna Ke Tat Pe Aana Lyrics


यमुना  के  तट  पे  आना 

मुरली  की  धुन  सुनाना 

हमसे  ना  भुला  जाये 

तेरा  श्याम  मुस्कुराना 


यमुना  के  तट  पे  आना 

मुरली  की  धुन  सुनना 

हमसे  ना  भुला  जाये 

तेरा  श्याम  मुस्कुराना 


धोखा  दिया  है  तुमने 

दिल  सबका  मोह  लिया  है 

तेरी  एक  झलक  को  मोहन 

तड़पे  ये  दिल  दीवाना 


हमसे  ना  भुला  जाये 

तेरा  श्याम  मुस्कुराना 

यमुना  के  तट  पे  आना 


हमे  याद  आ  रही  है 

मुरली  की  मधुर  ताने 

क्या  भूल  तुम  गए  हो 

यमुना  के  तट  पे  आना 


हमसे  ना  भुला  जाये 

तेरा  श्याम  मुस्कुराना 

यमुना  के  तट  पे  आना 


कहते  थे  लोग  हमसे 

विश्वाश  अब  हुआ  है 

छलिया  हो  तुम  तो  कान्हा 

छलने  का  था  बहाना 


हमसे  ना  भुला  जाये 

तेरा  श्याम  मुस्कुराना 

यमुना  के  तट  पे  आना 


उम्मीद  के  सहारे 

है  राधेश्याम  जिन्दा 

एक  बार  फिर  से  मोहन 

ब्रज  धाम  चलके  आना 


हमसे  ना  भुला  जाये 

तेरा  श्याम  मुस्कुराना 

यमुना  के  तट  पे  आना 


यमुना  के  तट  पे  आना 

मुरली  की  धुन  सुनना 

हमसे  ना  भुला  जाये 

तेरा  श्याम  मुस्कुराना 


यमुन  के  तट  पे  आना 

मुरली  की  धुन  सुनना 

हमसे  न  भूल  जाये 

तेरा  श्याम  मुस्कुराण 


यमुन  के  तट  पे  आना 

मुरली  की  धुन  सुनना 

हमसे  न  भूल  जाये 

तेरा  श्याम  मुस्कुराना  


धोखा    दिया    है  तुमने 

दिल  सबक  मोह  लिए  है 

तेरी  एक  झलक  को  मोहन 

तड़पे  ये  दिल  दीवाना   


हमसे  न  भूल  जाये 

तेरा   श्याम  मुस्कुराना 

यमुन  के  तट  पे  आना 


हमे  याद  आ  रही  है 

मुरली  की  मधुर  ताने 

की  भूल  तुम  गए  हो 

यमुन  के  तट  पे  आना   


हमसे  न  भूल  जाये 

तेरा   श्याम  मुस्कुराना 

यमुन  के  तट  पे  आना 


कहते थे लोग  हमसे 

विश्वाश  अब  हुआ   है 

छलिया  हो  तुम  तो  कान्हा 

छलने  का   था   बहना   


हमसे  न  भुला    जाये 

तेरा  श्याम  मुस्कुराना 

यमुना  के  तट  पे  आना 


उम्मीद  के  सहारे 

है   राधेश्याम  जिन्दा 

एक  बार  फिर  से  मोहन 

ब्रज  धाम  चलके  आना  


हमसे  न  भूल  जाये 

तेरा  श्याम  मुस्कुराना 

यमुन  के  तट  पे  आना 


यमुना    के  तट  पे  आना 

मुरली  की  धुन  सुनना 

हमसे  न  भुला   जाये 

तेरा    श्याम  मुस्कुराना 


यमुना के तट पे आना Video


Related Posts