-->

श्री जगन नाथ जी की आरती Shri Jagan Nath Ji Ki Aarti

  Shri Jagan Nath Ji Ki Aarti 


आरती श्री जगन्नाथ मंगल कारी,

आरती श्री बैकुंठ मंगलकारी,

मंगलकारी नाथ आपादा हरि,

कंचन को धुप दीप ज्योत जगमगी,


अगर कपूर बाटी भव से धारी,

आरती श्री जगन्नाथ मंगल कारी,

आरती श्री बैकुंठ मंगलकारी,


घर घरन बजता बाजे बंसुरी,

घर घरन बजता बाजे बंसुरी,

झांझ या मृदंग बाजे, ताल खनजरी,

आरती श्री जगन्नाथ मंगल कारी,

आरती श्री बैकुंठ मंगलकारी,


निरखत मुखारविंद परसोत चरनारविन्द आपादा हरि,

जगन्नाथ स्वामी के अताको चढे वेद की धुवानी,

जगन्नाथ स्वामी के भोग लागो बैकुंठपुरी,


आरती श्री जगन्नाथ मंगल कारी,

आरती श्री बैकुंठ मंगलकारी,

इंद्र दमन सिंह गजे रोहिणी खड़ी,

इंद्र दमन सिंह गजे रोहिणी खड़ी,


मार्कंडेय स्व गंगा आनंद भरि,

आरती श्री जगन्नाथ मंगल कारी,

आरती श्री बैकुंठ मंगलकारी,


सरनार मुनि द्वारे तदे ब्रह्म वेद भानी,

सरनार मुनि द्वारे तदे ब्रह्म वेद भानी,

धन धन ओह सुर स्वामी आनंद गढ़ी,


आरती श्री जगन्नाथ मंगल कारी,

आरती श्री बैकुंठ मंगलकारी,

आरती श्री जगन्नाथ मंगल कारी,

आरती श्री बैकुंठ मंगलकारी,


मंगलकारी नाथ आपादा हरि,

कंचन को धुप दीप ज्योत जगमगी,

अगर कपूर बाटी भव से धारी,


आरती श्री जगन्नाथ मंगल कारी,

आरती श्री बैकुंठ मंगलकारी


Related Posts