Teri Duniya Mere Rabba Lyrics

Teri Duniya Mere Rabba Lyrics by Sahir Ali Bagga. Latest Sad song Teri Duniya Mere Rabba sung by Sahir Ali Bagga. While this song music given by Sahir Ali Bagga. and its lyrics writer is M.Mujtaba, Sahir Ali Bagga.

Teri Duniya Mere Rabba Lyrics

Teri Duniya Mere Rabba Song Details

Teri Duniya Mere Rabba song Detais
Song – Teri Duniya Mere Rabba
Singer – Sahir Ali Bagga
Lyrics – M.Mujtaba, Sahir Ali Bagga
Music – Sahir Ali Bagga

Teri Duniya Mere Rabba Lyrics in Hindi

रब्बा वे….
तेरी दुनिया मेरे रब्बा
क्यूँ मुझे ही रास नहीं
दिल टुटा कोई जोड़े
रही कोई आस नहीं

जख्म पहले मिटे ना
आके और देते है
मानो जिनको सहारा
वही छोड़ देते है

मेरी तकदीरो में लिखेया मौला
तुही मोड़ ते
मेरे नसीबो की उतरी रदा
तुही ओड दे

मेरी तकदीरो में लिखेया मौला
तुही मोड़ ते
मेरे नसीबो की उतरी रदा
तुही ओड दे

दस्तक बिना आये गम भी अजीब है
जानते नहीं है इनको फिर भी क्यूँ नसीब है

हाथ जिसने थामा था वो ही ना हुए अपने
हाल तू ही जाने रब्बा तू ही तो करीब है

तुझको ही अब कहू बस दुःख ये गोर देते है
मानो जिनको सहारा वही छोड़ देते है

मेरी तकदीरो में लिखेया मौला
तुही मोड़ ते
मेरे नसीबो की उतरी रदा
तुही ओड दे

मेरी तकदीरो में लिखेया मौला
तुही मोड़ ते
मेरे नसीबो की उतरी रदा
तुही ओड दे

प्या जो मिला मुझको
जीने का बहाना था
क्या पता था जा लेलेगा
दिल मेरा निशाना था

दर्द था नसीब में
दर्द को निभाना था
आग के समन्दर में
डूब के ही जाना था

जख्म पहले मिटे ना
आके और देते है
मानो जिनको सहारा
वही छोड़ देते है

मेरी तकदीरो में लिखेया मौला
तुही मोड़ ते
मेरे नसीबो की उतरी रदा
तुही ओड दे

मेरी तकदीरो में लिखेया मौला
तुही मोड़ ते
मेरे नसीबो की उतरी रदा
तुही ओड दे

हाल-ए-दिल हुआ ऐसा
दर्द की लहर जैसा
जिसका ना इलाज कोई
दर्द ये ज़हर जैसा

खालीपन यूँ उतरा है
बनके एक कहर जैसा
मेरे इस अँधेरे में
कोई ना सहर जैसा

देना कोई दिलासा
गम पे गौर देते है
मानो जिनको सहारा
वही छोड़ देते है

मेरी तकदीरो में लिखेया मौला
तुही मोड़ ते
मेरे नसीबो की उतरी रदा
तुही ओड दे

मेरी तकदीरो में लिखेया मौला
तुही मोड़ ते
मेरे नसीबो की उतरी रदा
तुही ओड दे

Teri Duniya Mere Rabba Lyrics

Teri Duniya Mere Rabba Lyrics

Raba Ve Raba Ve
Teri Duniya Mere Raba
Kyu Mujhe Hi Raas Nahi

Dil Tota Koi Jore
Rahi Koi Aas Nahi
Zakham Pehle Mite Na
Aa Ke Aur Dete Hain

Mana Jin Ko Sahara
Wohi Chor Dete Hai
Meri Taqdeero Main Likhya
Maula Tu Hi Mor De

Mere Naseebo Ki Utri Rida
Tu Hi Orh De
Meri Taqdeero Main Likhya
Maula Tu Hi Mor De

Mere Naseebo Ki Utri Rida
Tu Hi Orh De
Haal E Dil Howa Aisa
Dard Ki Laher Jaisa

Jis Ka Na Ilaj Koi
Dard Yeh Zaher Jaisa
Khali Pan Yun Utra Hai
Ban Ke Ik Qaher Jaisa

Mere Is Andhere Mein
Koi Na Saher Jaisa
De Na Koi Dilasa
Gham Pe Gaor Dete Hai

Mana Jin Ko Sahara
Wohi Chor Dete Hai
Meri Taqdeero Main Likhya
Maula Tu Hi Mor De

Mere Naseebo Ki Utri Rida
Tu Hi Orh De
Meri Taqdeero Main Likhya
Maula Tu Hi Mor De

Mere Naseebo Ki Utri Rida
Tu Hi Orh De
Dastak Bina Aye
Gham Bhi Ajeeb Hai

Jante Nahi Hai Inko
Phir Bhi Kyu Naseeb Hai
Hath Jis Ne Thama Tha
Wohi Na Howe Apne

Haal Tu Hi Jaane Raba
Tu Hi To Qareeb Hai
Tujhko Hi Ab Kaho Bus
Dukh Yeh Aur Dete Hai

Mana Jin Ko Sahara
Wohi Chor Dete Hai
Meri Taqdeero Main Likhya
Maula Tu Hi Mor De
Mere Naseebo Ki Utri Rida
Tu Hi Orh De

Meri Taqdeero Main Likhya
Maula Tu Hi Mor De
Mere Naseebo Ki Utri Rida
Tu Hi Orh De

Pyar Jo Mila Mujhko
Jeene Ka Bahana Tha
Kiya Pata Tha Jaan Le Le Ga
Dil Mera Nishana Tha

Dard Tha Naseeb Mein
Dard Ko Nibhana Tha
Aag Ke Samunder Mein
Doob Ke Hi Jana Tha

Zakham Pehle Mite Na
Aa Ke Aur Dete Hain
Mana Jin Ko Sahara
Wohi Chor Dete Hai

Meri Taqdeero Main Likhya
Maula Tu Hi Mor De
Mere Naseebo Ki Utri Rida
Tu Hi Orh De

Meri Taqdeero Main Likhya
Maula Tu Hi Mor De
Mere Naseebo Ki Utri Rida
Tu Hi Orh De.

Post a Comment (0)
Previous Post Next Post