Mazaa Aa Gaya Lyrics

Mazaa Aa Gaya lyrics by B Praak. Emotional Hindi song Mazaa Aa Gaya sung by B Praak and this song Lyrics written by Jaani.

Mazaa Aa Gaya lyrics

Mazaa Aa Gaya lyrics

Maine Gairon Ki Baho Mein
Dekha Hai So Ke,
Sach Batayein
Mazaa Aa Gaya,

Tu Tu Hai Meri Jaan
Koi Tujh Sa Koi Na,
Yeh Unki Jo Khushboo
Samjha Gaya
Maine Dekha Hai Gairon
Ki Bahi Mein So Ke

Tu Tu Hai Meri Jaan
Koi Tujh Sa Koi Na
Yeh Unki Jo Khushboo
Samjha Gaya
Maine Dekha Hai Gairon
Ki Bahi Mein So Ke

Bhatak Gaye The Hum
Ek Shaam Ko,
Kiya Hai Kharaab Kharaab
Tere Naam Ko

Kyun Dil Teda Todha
Yeh Poochne
Humse Sapne Mein Mere
Khuda Aaya

Dariya Yeh Dariya Dariya
Na Hota
Na Hota Jo Iska Kinara
Aqal Thikane Aayi Hamari
Tumse Bichad Kar O Yaara

Raat Ko Nikla Tha Teri Gali Se
Thokar Main Kha Kar
Subah Aa Gaya
Maine Dekha Hai Gairon
Ki Bahi Mein
Sach Sach Batayein
Mazaa Aa Gaya

Tu Tu Hai Meri Jaan Koi
Tujh Sa Koi Na
Yeh Unki Jo Khushboo
Samjha Gaya

Yeh Ghalti Thi Akhari Mauka
De De Na Mujh Ko Tu Saaki
Ab Tere Pairon Mein Kaatnge
Jitni Bhi Zindagi Hai Baaki

Yeh Ghalti Thi Akhari Mauka
De De Na Mujh Ko Tu Saaki
Ab Tere Pairon Mein Kaatnge
Jitni Bhi Zindagi Hai Baaki

Jaani Ke Andar Jo Jaani
Awaara Tha
Jaani Who Khud Hi Jala
Aa Gaya

Maine Dekha Hai Gairon
Ki Bahi Mein
Sach Sach Batayein
Mazaa Aa Gaya

Tu Tu Hai Meri Jaan Koi
Tujh Sa Koi Na
Yeh Unki Jo Khushboo
Samjha Gaya

Mazaa Aa Gaya lyrics in Hindi

मैंने गैरों की बाहों में
देखा है सो के
सच बताएं
मज़ा आ गया

तू तू है मेरी जान
कोई तुझ सा कोई न
यह उनकी जो खुशबू
समझा गया
मैंने गैरों की बाहों
में देखा है सो के

तू तू है मेरी जान
कोई तुझ सा कोई न
यह उनकी जो खुशबू
समझा गया
मैंने देखा है गैरों
की बाहों में सो के

भटक गए थे हम
एक शाम को ,
किया है खराब खराब
तेरे नाम को

क्यों दिल टेड़ा तोड़ा
यह पूछने
हमसे सपने में मेरे
खुदा आया

दरिया यह दरिया दरिया
न होता
न होता जो इसका किनारा
अक़ल ठिकाने आयी हमारी
तुमसे बिछड़ कर ओ यारा

रात को निकला था तेरी गली से
ठोकर मैं खा कर
सुबह आ गया
मैंने देखा है गैरों
की बही में
सच सच बताएं
मज़ा आ गया

तू तू है मेरी जान कोई
तुझ सा कोई न
यह उनकी जो खुशबू
समझा गया

यह ग़लती थी आखरी मौका
दे दे न मुझ को तू साकी
अब तेरे पैरों में काटेंगे
जितनी भी ज़िन्दगी है बाकी

यह ग़लती थी आखरी मौका
दे दे न मुझ को तू साकी
अब तेरे पैरों में काटेंगे
जितनी भी ज़िन्दगी है बाकी

जानी के अंदर जो जानी
आवारा था
जानी हु खुद ही जला
आ गया

मैंने देखा है गैरों
की बही में
सच सच बताएं
मज़ा आ गया

तू तू है मेरी जान कोई
तुझ सा कोई न
यह उनकी जो खुशबू
समझा गया

Mazaa Aa Gaya lyrics

Post a Comment (0)
Previous Post Next Post