तुम क्या मिले - Tum Kya Mile Lyrics - Arijit Singh

Tum Kya Mile Lyrics by Arijit Singh Latest Hindi song Tum Kya Mile sung by Shreya Ghoshal & Arijit Singh, from album Rocky Aur Rani Ki Prem Kahani. Tum Kya Mile Lyrics written by Amitabh Bhattacharya while this song cast by featuring Ranveer Singh, Alia Bhatt.

Tum Kya Mile Lyrics

Tum Kya Mile Lyrics

Be-range The Din
Be-rangi Shamein
Aayi Hain Tum Se
Rangeeniyan

feeke The Lamhein
Jeene Mein Sare
Aayi Hai Tum Se
Namkiniyan

Be-iraada Raston Ki
Ban Gaye Ho Manzilein
Mushkilein Hal Hain Tumhin Se
Ya Tumhin Ho Mushkilein

Tum Kya Mile Tum Kya Mile
Hum Na Rahe Hum Tum Kya Mile

Jaise Mere Dil Mein Khile
Phagun Ke Mousam
Tum Kya Mile Tum Kya Mile
Tum Kya Mile Tum Kya Mile
Tum Kya Mile Tum Kya Mile

Kore Kagazon Ki Hi Tarha Hai
Ishq Bina Jawaniyan
Darj Hui Hai Shayari Mein
Jinki Hai Prem Kahaniyan

Hum Zamane Ki Nigaahon Mein
Kabhi Gumnam The
Apne Charche Kar Rahi Hai
Ab Shehar Ki Mehfilein
Tum Kya Mile Tum Kya Mile
Hum Na Rahe Hum Tum Kya Mile

Jaise Mere Dil Mein Khile
Phagun Ke Mausam Tum Kya Mile
Tum Kya Mile Tum Kya Mile
Tum Kya Mile Tum Kya Mile

Hum The Rojmar’ra Ke Ek Tarha Ke
Kitne Sawalon Mein Uljhe
Unke Jawabon Ke Jaise Mile

Jharne Thande Paani Ke
Ho Rawani Mein
Unche Pahadon Se Beh Ke
Thehre Talabon Se Jaise Mile

Tum Kya Mile Tum Kya Mile
Hum Na Rahe Hum Tum Kya Mile
Jaise Mere Dil Mein Khile
Phagun Ke Mausam Tum Kya Mile

Tum Kya Mile Tum Kya Mile
Hum Na Rahe Hum Tum Kya Mile
Tum Kya Mile Tum Kya Mile
Tum Kya Mile Tum Kya Mile

Tum Kya Mile Lyrics in hindi

बे-रंगे थे दिन बेरंगी शामें
आई हैं तुम से रंगीनियाँ
फीके थे लम्हे जीने में सारे
आई हैं तुम से नमकीनियाँ

बे-इरादा रास्तों की
बन गए हो मंज़िलें
मुश्किलें हल हैं तुम्हीं से
या तुम्हीं हो मुश्किलें

तुम क्या मिले तुम क्या मिले
हम ना रहे हम तुम क्या मिले

जैसे मेरे दिल में खिले
फागुन के मौसम
तुम क्या मिले

तुम क्या मिले तुम क्या मिले
तुम क्या मिले तुम क्या मिले

कोरे काग़ज़ों की ही तरह है
इश्क़ बिना जवानियाँ
दर्ज हुई है शायरी में
जिनकी है प्रेम कहानियाँ

हम ज़माने की निगाहों में
कभी गुमनाम थे
अपने चर्चे कर रही हैं
अब शहर की महफ़िलें

तुम क्या मिले तुम क्या मिले
हम ना रहे हम तुम क्या मिले

जैसे मेरे दिल में खिले
फागुन के मौसम
तुम क्या मिले

तुम क्या मिले तुम क्या मिले
तुम क्या मिले तुम क्या मिले
हम रोजमर्रा के एक तरह के
कितने सवालों में उलझे
उनके जवाबों के जैसे मिले

झरने ठंडे पानी के हो रवानी में
ऊँचे पहाड़ों से बह के
ठहरे तलाबों से जैसे मिले

तुम क्या मिले तुम क्या मिले
हम ना रहे हम तुम क्या मिले
जैसे मेरे दिल में खिले
फागुन के मौसम तुम क्या मिले

तुम क्या मिले तुम क्या मिले
हम ना रहे हम तुम क्या मिले
तुम क्या मिले तुम क्या मिले
तुम क्या मिले तुम क्या मिले

Tum Kya Mile Lyrics

Post a Comment (0)
Previous Post Next Post