Are Dwaar Palo Kanhaya se Kah Do Lyrics

 अरे द्वारपालों कन्हैया से कह दो Krishna Bhajan Lyrics

Are Dwaar Palo Kanhaya se Kah Do Lyrics

​देखो देखो ये गरीबी, ये गरीबी का हाल
कृष्ण के दर पे, विस्वास लेके आया हूँ
मेरे बचपन का यार है, मेरा श्याम,
यही सोच कर मै,आस करके आया हूँ

अरे द्वारपालों, कन्हैया से कह दो
दर पे सुदामा, गरीब आ गया है
भटकते भटकते, ना जाने कहाँ से
तुम्हारे महल के, करीब आ गया है

ना सर पे हैं पगड़ी, ना तन पे हैं जामा
बतादो कन्हैया को, नाम है सुदामा
इक बार मोहन, से जाकर के कहदो
मिलने सखा बद, नसीब आ गया है

अरे द्वारपालो, कन्हैया से कह दो
दर पे सुदामा, गरीब आ गया है

सुनते ही दौड़े, चले आये मोहन
लगाया गले से, सुदामा को मोहन,
हुआ रुक्मणि को, बहुत ही अचम्भा,
ये मेहमान कैसा, अजीब आ गया है

अरे द्वारपालो, कन्हैया से कह दो,
दर पे सुदामा, गरीब आ गया है।

बराबर में अपने, सुदामा बैठाये,
चरण आँसुओ से, श्याम ने धुलाये,
ना घबराओ प्यारे, जरा तुम सुदामा,
ख़ुशी का समां तेरे, करीब आ गया है।।

अरे द्वारपालो, कन्हैया से कह दो,
दर पे सुदामा, गरीब आ गया है।

अरे द्वारपालों, कन्हैया से कह दो,
दर पे सुदामा, गरीब आ गया है,
भटकते भटकते, ना जाने कहाँ से,
तुम्हारे महल के, करीब आ गया है।।

Krishna Bhajan: छोटी छोटी गैया छोटे छोटे ग्वाल
छोटी छोटी गैया छोटे छोटे ग्वाल
छोटो सो मेरो मदन गोपाल
आगे आगे गईया पीछे पीछे ग्वाल
बीच में मेरो मदन गोपाल

कारी कारी गैया गोरे गोरे ग्वाल
श्याम वरण मेरो मदन गोपाल
घास खाए गैया दुध पीवे ग्वाल
माखन खावे मेरो मदन गोपाल

छोटी छोटी लकुटी छोले छोटे हाथ
बंसी बजावे मेरो मदन गोपाल
छोटी छोटी सखियाँ मधुबन बाग़

रास राचावे मेरो मदन गोपाल
छोटी छोटी गैया छोटे छोटे ग्वाल
छोटो सो मेरो मदन गोपाल

Post a Comment (0)
Previous Post Next Post