Bhole Ji Mohe Dars Dikha Do

  भोले जी मोहे दरस दिखा दो Bhole Ji Mohe Dars Dikha Do

 


 भोले जी मोहे दरस दिखा दो


एक बार मैं बड़ी दूर से आई


मैं बड़ी दूर से आई


मैं पैदल चल कर आई


भोले जी मोहे दरस दिखा दो


एक बार मैं बड़ी दूर से आई


मैं हरिद्वार से आई गंगा


जल भर के लाई,


भोले जी तुम चरण धूला लो


एक बार मैं बड़ी दूर से आई


भोले जी मोहे दरस दिखा दो


एक बार मैं बड़ी दूर से आई


मैं दूध का लोटा लाई भोले


तुम्हें नबाने आई


भोले जी मेरी गोदी में दे दो


नंदलाल मैं बड़ी दूर से आई


भोले जी मोहे दरस दिखा दो


एक बार मैं बड़ी दूर से आई


चंदन की कटोरी लाई भोले


तिलक लगाने आई


भोले जी मेरा कर दो अमर


सुहाग मैं बड़ी दूर से आई


भोले जी मोहे दरस दिखा दो


एक बार मैं बड़ी दूर से आई


मैं भांग धतूरा लाई तुम्हें


भोग लगाने आई


भोले जी मेरे भर देना भंडार


मैं बड़ी दूर से आई


भोले जी मोहे दरस दिखा दो


एक बार मैं बड़ी दूर से आई


मैं ढोलक मजीरा लाई भोले


भजन सुनाने आई


भोले जी मेरा कर दो बेड़ा पार


मैं बड़ी दूर से आई


भोले जी मोहे दरस दिखा दो


एक बार मैं बड़ी दूर से आई

Post a Comment (0)
Previous Post Next Post