Mere Dil Ki Patang Kat Gayi Lyrics

 मेरे दिल की पतंग कट गयी लिरिक्स Krishna Bhajan Lyrics

Mere Dil Ki Patang Kat Gayi Lyrics

मेरे दिल की पतंग कट गयी
मुरली वाला लूट ले गया

मुरली वाला लूट ले गया
सांवरे कन्हैया से पेच लड़ाया था

पेच लड़ाके मैं तो बड़ा पछताया था
मेरी डोर जाने कैसे फस गयी

मुरली वाला लूट ले गया
मेरे दिल की पतग कट गयी

मुरली वाला लूट ले गया
कटती पतंग मेरी प्रेम की डोरी से

डोर में फँसाई डोर कान्हा ने चोरी से
इस छलिया की दाल गल गयी

मुरली वाला लूट ले गया
मेरे दिल की पतग कट गयी

मुरली वाला लूट ले गया
अच्छा हुआ लूटके ले गया कन्हैया

वर्ना लूटके ले जाती दुनिया
इसे श्याम की शरण मिल गई

मुरली वाला लूट ले गया
मेरे दिल की पतग कट गयी

मुरली वाला लूट ले गया
मेरे दिल की पतंग कट गयी

मुरली वाला लूट ले गया
मुरली वाला लूट ले गया

Post a Comment (0)
Previous Post Next Post