राधा के तुम ही हो संवारें Radha Ke Tum Hi Ho Sanware

 Radha Ke Tum Hi Ho Sanware 

Radha Ke Tum Hi Ho Sanware

राधा के तुम ही हो संवारें

रुत क्यूँ है आई राधा कृष्णा की जुदाई की

बात क्यूँ करते हो कान्हा तुम विदाई की 


रुत क्यूँ है आई राधा कृष्णा की जुदाई की,

बात क्यूँ करते हो कान्हा तुम विदाई की 


जो वृन्दावन से तुम दूर जाओगे,

किसके लिए फिर बंशी तुम बजाओगे


छीन गए हैं चैन तेरे नैन बावरे, राधा के तुम ही हो संवारें

राधा के तुम ही हो संवारें 


नैन बावरे, नैन बावरें, राधा के तुम ही हो संवारें

राधा के तुम ही हो संवारें 


न चाहू मै महल ये दौलत, न चांदी न सोना 

मैं तो चाहू बस तेरे, काँधे पे सर रख सोना


जो हो जाए कृष्ण तू मेरा, तो काहे का रोना 

पूरा दिल न मांगूं, बस दे-दे दिल में एक कोना


जा तो रहे हो, फिर कब मिलोगे ये तो बता दो तुम सही 

किस लोक में, होगा मिलन, या फिर होगा भी नहीं 


छीन गए हैं चैन तेरे नैन बावरे, राधा के तुम ही हो संवारें

राधा के तुम ही हो संवारें 


नैन बावरे, नैन बावरें, राधा के तुम ही हो संवारें

राधा के तुम ही हो संवारें 


एक वादा क्या जाते जाते मुझसे करोगे,

साँस आखिरी जब मैं लू क्या पास रहोगे 


दूर मुझसे जो हो भी गए तो दिल से न होगे

गम तुम्हे कोई न हो, हो भी तो मुझसे कहोगे 


प्राण त्यागते हुए मुहे बंशी सुनोगे क्या,

आखिरी बार मुझको काँधे पे सुलाओगे क्या


पूछो न दिल से अपने मुझे भूल पाओगे क्या,

बस भी करो अब मोहन और भी रुलाओगे या 


छीन गए हैं चैन तेरे नैन बावरे, राधा के तुम ही हो संवारें,

राधा के तुम ही हो संवारें 


नैन बावरे, नैन बावरें राधा के तुम ही हो संवारें

राधा के तुम ही हो संवारें 


जाओना कन्हैया हमसे दूर

जी नहीं पायेंगे, हम मर जायेंगे 


जाओना कन्हैया हमसे दूर

जी नहीं पायेंगे, हम मर जायेंगे 

Post a Comment (0)
Previous Post Next Post