Tere Dar ko Mai Chhod Kaha Jau

Tere Dar ko Mai Chhod Kaha Jau 

तेरे दर को मै छोड़ कहा जाऊं


 तेरे दर को मै छोड़ कहा जाऊं

 तेरे दर को मै छोड़ कहा जाऊं

ना दूजा कोई द्वार ना दिखे 


तुझ बिन जीना भी क्या जीना 

तेरा दर ही मेरा ठिकाना 

हो तेरे दर को मै.


तेरा दर्शन जब मै पाऊ 

दुनिया के गम भूल ही जाऊ 

हो तेरे दर को मै.


इतनी कृपा बस हम पर कर दे

नाम तेरा गाऊ मुझे यही वर दे 

हो तेरे दर को मै.

Post a Comment (0)
Previous Post Next Post