आरम्भ है प्रचंड Aarambh Hai Prachand

 Aarambh Hai Prachand

 आरम्भ है प्रचंड

आरम्भ है प्रचंड है बोल मस्तकों के झुण्ड
आज जुंग की घडी की तुम गुहार दो

आरम्भ है प्रचंड है बोल मस्तकों के झुण्ड
आज जुंग की घडी की तुम गुहार दो
आन बान शान बन या की
जान का हो दान
आज इक धनुष के बाण पे उतार दो

आरम्भ है प्रचंड है बोल मस्तकों के झुण्ड
आज जुंग की घडी की तुम गुहार दो
आन बान शान बान या की
जान का हो दान
आज इक धनुष के बाण
पे उतार दो आरम्भ है प्रचंड

मैं करे सो प्राण दे
जो मैं करे सो प्राण ले
वही तोह एक सर्वशक्तिमान है
मैं करे सो प्राण दे
जो मैं करे सो प्राण ले
वही तोह एक सर्वशक्तिमान है

कृष्णा की पुकार है
यह भगवत का सार है
की युद्ध ही वीर का प्रमाण है
कौरवों की भीड़ हो या
पांडवों का निराद हो
जो लड़ सका है वो ही तो महँ है

जीत की हवस नहीं
किसी पे कोई वश नहीं
क्या ज़िन्दगी है ठोकरों पे मार दो
मौत अंत है नहीं तो मोत से भी क्यों दरें
ये जाके आसमान में दहाड़ दो

आरम्भ है प्रचंड है बोल मस्तकों के झुण्ड
आज जुंग की घडी की तुम गुहार दो
आन बान शान बान या की
जान का हो दान
आज इक धनुष के बाण पे उतार दो
आरम्भ है प्रचंड

वो दया का भाव या शौर्य का चुनाब
या की हार का वो घाव तुम ये सोच लो

या की पुरे भाल पर
जला रहे विजय का लाल
लाल ये गुलाल तुम सोच लो
रंग केसरी हो या मृदंग केसरी हो
या केसरी हो ताल ये तुम सोच लो

जिस कवी की कल्पना में
ज़िन्दगी हो प्रेम गीत
उस कवी को आज तुम नकार दो
भीगती नसों में आज
फुलक्ति रगों में आज

जो आग की लपट का तुम बखार दो
आरम्भ है प्रचंड बोल मस्तकों के झुण्ड

आज जुंग की घडी की तुम गुहार दो
आन बाण शान या की
जान का हो दान आज

इक धनुष के बाण पे उतर दो
आरम्भ है प्रचंड
आरम्भ है प्रचंड
आरम्भ है प्रचंड

Aarambh hai Prachand Lyrics

Aarambh hai prachand hai
Bol Mastakon ke jhund
Aaj jung ki ghadi ki
Tum guhaar do

Aarambh hai prachand hai
Bol Mastakon ke jhund
Aaj jung ki ghadi ki
Tum guhaar do
Aan ban shaan ban ya ki
jaan ka ho daan

Aaj ik dhanush ke
Baan pe utaar do

Aarambh hai prachand hai
Bol Mastakon ke jhund
Aaj jung ki ghadi ki
Tum guhaar do
Aan ban shaan ban ya ki
jaan ka ho daan

Aaj ik dhanush ke
Baan pe utaar do
Aarambh hai prachand

Mann kare so praan de
jo mann kare so praan le
Wahi toh ek sarvshaktiman hai
Mann kare so praan de
jo mann kare so praan le
Wahi toh ek sarvshaktiman hai

Krishna ki pukar hai
yeh bhagwat ka saar hai ki
yudh hi veer ka pramaan hai
korvon ki bheed ho ya
Pandwon ka niraad ho
Jo lad saka hai
wo hi to mahan hai

Jeet ki hawas nahi
kisi pe koe vsh nahi
Kya zindagi hai thokro
pe maar do
Mout ant hai nahi to mot
Se bhi kyun darein
Ye jaake aasman mein
dahad do

Aarambh hai prachand hai
Bol Mastakon ke jhund
Aaj jung ki ghadi ki
tum guhaar do
Aan ban shaan ban ya
ki jaan ka ho daan

Aaj ik dhanush ke
baan pe utaar do

Aarambh hai prachand

Wo dyaa ka bhav ya
shaurya ka chunaab
ya ki haar ka wo ghaav
tum ye soch lo

Yaa ki pure bhaal par
jala rahe vijay ka laal
Laal ye gulaal tum soch lo
Rang kesari ho ya
Maridang kesari ho
Ya kesari ho taal
ye tum soch lo

Jis kavi ki kalpna mein
Zindagi ho prem geet
Us kavi ko aaj tum nakar do
Bhigati nason mein aaj
Phulakti ragon mein aaj

Jo aag ki lapat ka
tum bakhaar do
Aarambh hai prachand
Bol Mastakon ke jhund

Aaj jung ki ghadi ki
tum guhaar do
Aan baan shaan ya ki
Jaan ka ho daan aaj

Ik Dhanush ke baan pe utar do
Aarambh hai prachand
Aarambh hai prachand
Aarambh hai prachand

Post a Comment (0)
Previous Post Next Post