बावा लाल प्यारे दी नित महिमा Bawa Lal Pyaare Di Nit Mahima Gaawa Main

 Bawa Lal Pyaare Di Nit Mahima Gaawa Main

बावा लाल प्यारे दी नित महिमा 

बावा लाल प्यारे दी नित महिमा गावां मैं

लै धूलि चरना दी मस्तक दे लावां मैं


जो लाल दा बन जावे ओह्दी किस्मत बन्दी है

तेरी छडा चौकठ न ईशा मेरे मन दी है


ठर हीर दा जांदा है जद दर्शन पावां मैं

लै धूलि चरना दी मस्तक देलावां मैं


एह्दे सिमरन विच जिसदी विरति जुड़ जन्दी है

फिर आई मुसीबत भी वापिस मूड जांदी है


इस दर तो खुशियां दी लै दौलत जावा मैं

बावा लाल प्यारे दी नित महिमा गावां मैं


एह सतगुरु है मेरा मैं सेवक हां इसदा

लभ दा ऐहदी रेहमत हां मेरे लब ते न दिसदा


ऐसे दियां यादा दी नित ज्योत जगावां मैं

बावा लाल प्यारे दी नित महिमा गावां मैं


एह्दे चरना विच फानी सब दे सिर युकदे ने

सुख झोली पेंदे ने दुःख जन्म दे मूक दे ने


इस लाल द्वारे ते फिर क्यों न आवा मैं

बावा लाल प्यारे दी नित महिमा गावां मैं

Post a Comment (0)
Previous Post Next Post