Jabaaw Lyrics - Badshah

Jabaaw Lyrics  – Latest Hindi song Jawaab sung, written and composed by Badshah. while this song cast by Badshah and gayatri Bhardwaj. Music by Badshah, IOF, Hiten.

Jabaaw Lyrics in Hindi

ये मुनासिफ होगा हमको थाम लो
के हम भी चांद ढूंढने लगे है बादलों में
नाम शामिल हो चुका है अपना पागलों में

मतलबी इस दुनिया से किनारे कर लूं
नाम तेरे सारी की सारी बहारे कर दूं
बस चले तो तेरे हाथ में सितारे रख दूं

शाम का रंग, क्यों तेरे रंग में मिल रहा है?
दिल मेरा तेरे संग बैठकर, क्यों खिल रहा है?

है कोई जवाब? ओ मेरे जनाब
है कोई जवाब? इस बात का

आपके अपने ही है, हमको जानिए तो
इस शर्म के लहज़े को पहचानिए तो
बात बन जाएगी, बात मानिए तो

क्या है कुछ नही, ये चार दिन की जिंदगानी
तारो की हेर-फेर की ये कारिस्तानी
ना कभी भी मिटने वाली लिखदे कहानी

आपकी आंखों में, जो लिखा
मैं वो पढ़ रहा हूं
बात वो होठों पर कब आयेगी,
इंतजार कर रहा हूं

है कोई जवाब? ओ मेरे जनाब
है कोई जवाब? इस बात का

बुनते रहे, या ना बुने ये ख़्वाब
है कोई जवाब इस बात का

Jabaaw Song Lyrics

Ye Munasib Hoga Humko Thaam Lo Ke
Hum Bhi Chaand Dhoondne
Lage Hain Baadlon Mein
Naam Shamil Ho Chuka Hai
Apna Paaglon Mein

Matlabi Iss Dunia Se
Kinare Karlu
Naam Tere Sari Ki Sari
Baharein Kardu

Bas Chale Toh Tere Hath Mein
Sitarein Rakh Du
Shaam Ka Rang Kyun Tere
Rang Mein Mil Raha Hai

Dil Mera Tere Sang Baith Ke
Kyun Khil Raha Hai
Hai Koi Jawaab, Oh Mere Janaab
Hai Koi Jawaab Iss Baat Ka

Aap Ke Apne Hi Hai Humko
Jaaniye Toh
Iss Sharam Ke Lehje Ko
Pehchaniye Toh
Baat Bann Jayegi Baat Maaniye Toh

Chahe Kuch Nahi Ye Chaar
Din Ki Zindgani
Taaron Ke Her Fer Ki
Yeh Karastaani
Na Kabhi Bhi Mitne Wali
Likh Di Kahani

Aapki Aankhon Mein Jo Likha Main
Woh Parh Raha Hoon
Baat Woh Honthon Par
Kab Aayegi Intzaar Kar Raha Hoon
Hai Koi Jawaab, Oh Mere Janaab

Hai Koi Jawaab Iss Baat Ka
Buntey Rahe Ya Na Buney Ye Khaab
Hai Koi Jawaab Iss Baat Ka

Post a Comment (0)
Previous Post Next Post