जानकी नाथ जी की आरती Janaki Nath Ji ki Aarti

Janaki Nath Ji ki Aarti

 जानकी नाथ जी की आरती 

जय श्रीरघुनाथा ।

दोउ कर जोरें बिनवौं, 

प्रभु  सुनिये बाता ॥

 

तुम रघुनाथ हमारे, 

प्रान पिता माता ।

तुम ही सज्जन-संगी, 

भक्ति मुक्ति-दाता ॥ जय

 

लख चौरासी काटो, 

मेटो यम-त्रासा ।

निसदिन प्रभु मोहि रखिये, 

अपने ही पासा ॥ जय

 

राम भरत लछिमन, 

सँग शत्रुहन भैया ।

जगमग ज्योति विराजै, 

शोभा अति लहिया ॥ जय

 

हनुमत नाद बजावत, 

नेवर झमकाता ।

स्वर्णथाल कर आरती, 

कौसल्या माता ॥ जय

 

सुभग मुकुट सिर, 

धनु सर कर सोभा भारी ।

मनीराम दर्शन करि, 

पल-पल बलिहारी ॥ जय…

 

Post a Comment (0)
Previous Post Next Post