Kabhi Shaam Dhale Lyrics

Kabhi Shaam Dhale Lyrics written by Muqtida Hasan Nida Fazli from Sur The Melody Of Life 2002. Latest Hindi Song Kabhi Shaam Dhale Sung by is Mahalakshmi Iyer. Music is composer is M. M. Keeravani.

Kabhi Shaam Dhale Lyrics Hindi

कभी शाम ढले तो
मेरे दिल में आ जाना

कभी चाँद खिले तो
मेरे दिल में आ जाना

कभी शाम ढले तो
मेरे दिल में आ जाना

कभी चाँद खिले तो
मेरे दिल में आ जाना

मगर आना इस तरह तुम
के यहाँ से फिर न जाना

कभी शाम ढले तो
मेरे दिल में आ जाना

कभी चाँद खिले तो
मेरे दिल में आ जाना

तू नहीं है मगर
फिर भी तू साथ है

बात हो कोई भी
तेरी ही बात है

तू ही मेरे अंदर है
तू ही मेरे बहार है

जब से तुझको जाना है
मैंने अपना मन है

मगर आना इस तरह तुम
के यहाँ से फिर न जाना

कभी शाम ढले तो
मेरे दिल में आ जाना

कभी चाँद खिले तो
मेरे दिल में आ जाना

कभी शाम ढले तो
मेरे दिल में आ जाना

कभी चाँद खिले तो
मेरे दिल में आ जाना

रात दिन की मेरी
दिलकशी तुमसे है
ज़िन्दगी की कसम
ज़िन्दगी तुमसे है

तुम ही मेरी आँखें हो
सूनी तन्हा राहों में
चाहे जितनी दूरी हो
तुम हो मेरी बाँहों में

मगर आना इस तरह तुम
के यहाँ से फिर न जाना
कभी शाम ढले आह
कभी चाँद खिले आह

कभी शाम ढले तो
मेरे दिल में आ जाना
कभी चाँद खिले तो
मेरे दिल में आ जाना.

Kabhi Shaam Dhale Lyrics

Kabhi Sham Dhale To
Mere Dil Mein Aa Jana

Kabhi Chand Khile To
Mere Dil Mein Aa Jana

Kabhi Sham Dhale To
Mere Dil Mein Aa Jana

Kabhi Chand Khile To
Mere Dil Mein Aa Jana

Magar Aana Is Tarha Tum
Ke Yahan Se Phir Na Jana

Kabhi Sham Dhale To
Mere Dil Mein Aa Jana

Kabhi Chand Khile To
Mere Dil Mein Aa Jana

Tu Nahin Hai Magar
Phir Bhi Tu Sath Hai
Baat Ho Koi Bhi
Teri Hi Baat Hai

Tu Hi Mere Andar Hai
Tu Hi Mere Bahar Hai
Jab Se Tujhko Jana Hai
Maine Apna Mana Hai

Magar Aana Is Tarha Tum
Ke Yahan Se Phir Na Jana

Kabhi Sham Dhale To
Mere Dil Mein Aa Jana

Kabhi Chand Khile To
Mere Dil Me Aa Jana

Kabhi Sham Dhale To
Mere Dil Me Aa Jana

Kabhi Chand Khile To
Mere Dil Mein Aa Jana

Raat Din Ki Meri
Dilkashi Tumse Hai
Zindagi Ki Kasam
Zindagi Tumse Hai

Tum Hi Meri Aankhen Ho
Sooni Tanha Rahon Me
Chahe Jitni Doori Ho
Tum Ho Meri Bahon Me

Magar Aana Is Tarha Tum
Ke Yahan Se Phir Na Jana
Kabhi Sham Dhale Aah
Kabhi Chand Khile Aah

Kabhi Sham Dhale To
Mere Dil Mein Aa Jana
Kabhi Chand Khile To
Mere Dil Mein Aa Jana.

Post a Comment (0)
Previous Post Next Post