राम को देख कर के जनक नंदिनी Ram Ko Dekh Kar Janak Nandini

Ram Ko Dekh Kar Janak Nandini Lyrics

 राम को देख कर के जनक नंदिनी

 राम को देख कर के जनक नंदिनी

बाग में वो खड़ी की खड़ी रह गयी 


राम देखे सिया को सिया राम को

चारो अँखिआ लड़ी की लड़ी रह गयी 


थे जनक पुर गये देखने के लिए,

सारी सखियाँ झरोखो से झाँकन लगे 


देखते ही नजर मिल गयी प्रेम की

जो जहाँ थी खड़ी की खड़ी रह गयी 


राम को देख कर के जनक नंदिनी

बोली एक सखी राम को देखकर,


रच गयी है विधाता ने जोड़ी सुघर ।

फिर धनुष कैसे तोड़ेंगे वारे कुंवर,


मन में शंका बनी की बनी रह गयी

राम को देख कर के जनक नंदिनी


बोली दूसरी सखी छोटन देखन में है

फिर चमत्कार इनका नहीं जानती 


एक ही बाण में ताड़िका राक्षसी

उठ सकी ना पड़ी की पड़ी रह गयी 

राम को देख कर के जनक नंदिनी


राम को देख कर के जनक नंदिनी

बाग में वो खड़ी की खड़ी रह गयी 


राम देखे सिया को सिया राम को

चारो अँखिआ लड़ी की लड़ी रह गयी

Ram Ko Dekh Kar Janak Nandini 

Post a Comment (0)
Previous Post Next Post