सच्ची श्याम तुम्हारी यारी Sachi Shyam Tumhari Yaari

Sachi Shyam Tumhari Yaari

Sachi Shyam Tumhari Yaari

 सच्ची श्याम तुम्हारी यारी

मतबल की दुनिया सारी

सच्ची श्याम तुम्हारी यारी


अब तेरे सिवा मेरे बाबा

कि मेरा यहाँ कोई नहीं


कि मेरा यहाँ कोई नहीं

अपनों की हूँ ठुकराई


मैं शरण तुम्हारी आई

    अब तेरे सिवा मेरे बाबा


कि मेरा यहाँ कोई नहीं

  की मेरा यहाँ कोई नहीं


मेरे जीवन की अटकी है नैया

पार कर दो बनके खिवैया


तुम ही पालक हो जग के रचैया

थाम लो श्याम मेरी कलैया


ऐसी मुश्किल घडी मुझपे आई

प्रीत अपनी हुई है पराई


हर कदम मैंने ठोकर है खाई

 बाबा मैं हूँ एक दुखियारी


मैं शरण तुम्हारी आई

 अब तेरे सिवा मेरे बाबा


कि मेरा यहाँ कोई नहीं

 कि मेरा यहाँ कोई नहीं


कब तक मैं चुपचाप रहूं

        कब तक बोझ ग़मों का सहुँ


आता नहीं नजर कोई

जिससे दिल की मैं बात कहूं


हारे के सहारे तुम हो

   तुम तीन बाण के धारी


प्रेमी से प्रेम निभाते,

ओ लीले के असवारी


उम्मीद लगाई है तुमसे

     एक आस लगाई है तुमसे


अब तेरे सिवा मेरे बाबा

 कि मेरा यहाँ कोई नहीं


कि मेरा यहाँ कोई नहीं

रूठे हमसे सारा जमाना


 पर तुम ना हमें ठुकराना

ये जीवन तुमको सौंप दिया


मुझे अपना बनाये रखना

मैं तेरा तू मेरा बाबा


सरकार मेरे मेरे दाता

अहसान ये मुझपे करना


     हर जनम में निभाना साथ मेरा

पीड़ा हर लो संकट हारी


 कुंदन के श्याम बिहारी

अब तेरे सिवा मेरे बाबा


कि मेरा यहाँ कोई नहीं

कि मेरा यहाँ कोई नहीं


मतबल की दुनिया सारी

   सच्ची श्याम तुम्हारी यारी

अब तेरे सिवा मेरे बाबा


 कि मेरा यहाँ कोई नहीं

कि मेरा यहाँ कोई नहीं

Post a Comment (0)
Previous Post Next Post