तेरी मुरली की धुन Teri murli ki dhun Lyrics

 Teri murli ki dhun Lyrics

तेरी मुरली की धुन 

तेरी मुरली की धुन सुनने 

मैं बरसाने से आयी हूँ 


मैं बरसाने से आयी हूँ

मैं वृषभानु की जाई हूँ


अरे रसिया, ओ मन वासिय

मैं इतनी दूर से आयी हूँ


सुना है श्याम मनमोहन

के माखन खूब चुराते हो


उन्हें माखन खिलने को 

मैं मटकी साथ लायी हूँ


सुना है श्याम मनमोहन

के गौएँ खूब चरते हो


तेरे गौएँ चराने को 

मैं ग्वाले साथ लायी हूँ


सुना है श्याम मनमोहन

के कृपा खूब करते हो 


तेरी कृपा मैं पाने को 

तेरे दरबार आयी हूँ

 

Post a Comment (0)
Previous Post Next Post