ये सारे खेल तुम्हारे है Ye Sare Khel Tumhare Hain

Ye Sare Khel Tumhare Hain Lyrics

खाटू श्याम भजन ye sare khel tumhare hain

 ये सारे खेल तुम्हारे है

 ये सारे खेल तुम्हारे है

जग कहता खेल नसीबों का


मैं तुझसे दौलत क्यूँ मांगू 

मैंने सुना तु यार गरीबों का


तेरी दीन सुदामा से यारी 

हमको ये सबक सिखाती है


धनवानों की ये दुनियां है

पर तु निर्धन का साथी है


दौलत के दीवाने क्या जाने

तु आशिक़ सदा गरीबों का


मैं तुझसे दौलत क्यूँ  मांगू 

मैंने सुना तु यार गरीबों का


तुने पत्थर से बहार आकर

धन्ना का रोट भी खाया था


तुने हाली बन धन्ना के

खेतों में हल भी चलाया था


तेरी इसी अदा से जान गया

तु पालन हार गरीबों का


मैं तुझसे दौलत क्यूँ  मांगू 

मैंने सुना तु यार गरीबों का


नरसी ने दौलत ठुकराकर

तेरे सा बेटा पाया था


तुने कदम कदम पर कान्हा

बेटे का धरम निभाया था


कोई माने या प्रभु ना माने

तु पालन हार गरीबो का


मैं तुझसे दौलत क्यूँ  मांगू 

मैंने सुना तु यार गरीबों का


प्रभु छमा करो रोमि सबको

तेरी राज की बात बताता है


तु सिक्के चांदी के देकर

हमे खुद से दूर भगाता है


तेरी इसी अदा से जान गया

तुझको विश्वाश गरीबों का


मैं तुझसे दौलत क्यूँ  मांगू 

मैंने सुना तु यार गरीबों का


हम तुमको तुम से मांग के ही

तेरी ये बाज़ी जीतेंगे


तेरे चरणों में रोमि के

अब दिन सावरिया बीतेंगे


हम दीन हीन दुखियारे है

तु दातार है गरीबों का


मैं तुझसे दौलत क्यूँ  मांगू 

मैंने सुना तु यार गरीबों का


ये सारे खेल तुम्हारे है

जग कहता खेल नसीबों का


मैं तुझसे दौलत क्यूँ मांगू 

मैंने सुना तु यार गरीबों का

Post a Comment (0)
Previous Post Next Post