चंडीगढ़ का छोकरा Chandigarh Ka Chokra Lyrics

Chandigarh Ka Chokra Lyrics by Raj Ranjodh & sung by Sunanda Sharma. Chandigarh Ka Chokra Music Directed by Amanninder Singh. This song Produced by Pinky Dhaliwal.

Chandigarh Ka Chokra Lyrics

Chandigarh Ka Chokra Lyrics

ओ आख्या मैं लाली सुरत प्यारी सह
थोड़ा वेल्ली थोड़ा सा खिलाड़ी से

बेबी कहना छोरे को बिमारी सेह
घना घना ये शिकारी सेह

चंडीगढ़ का छोकरा लागेया मन्ने देख रहा
मीठी मीठी मुस्कान सेह हैंडसम बड़ा बावरा

आखें जिसे गोली ऐ हाथ में उसके रोली ऐ
लम्बा कद काठ का बोले धीरे-धीरे ए

मुंडा कुडि़यां चिड्डियां वेख दा
रेहंदा अखन सेक्क दा
काली ऐ दुनाली दे विच गाना चले ड्रेक दा

मुन्दर पयी चाँदी दी जेब भारी आ गाँधी दी
खाली खाली रोड तह राती पक्का गेड़ा लेक दा

ओह बिल्ली बिली अख ओहदी रंग गोरा गोरा नी
सिधेया ना सिधा चले पुथेया नल कोरा नी

जिम दा शौकीन लग्गे मोडेया तो छोड़ा नी
मेरे नाल मीठा बोले बाकियाँ नाल कोड़ा नी

चंडीगढ़ का छोकरा चंडीगढ़ का छोकरा
लागे मन्ने देख रहा
मुंडा कुडि़यां चिड्डियां वेख दा
रेहंदा अखाँ सेक्क दा

काली ऐ दुनाली दे विच गाना चले ड्रेक दा
मुन्दर पयी चाँदी दी जेब भारी आ गाँधी दी

खाली खाली रोड तह राती पक्का गेड़ा लेक दा
ओह बाजी जंदा खेड़ी आ मत्त शुरू तो टेड्डी आ

मेरे आगे सुट्ट कुड्डे भावे थोड़ा कैज़ी आ
हाय राज सेहयां की क्रिया वे केहरा मंतर पड़ेया वे

तेरी एन्नी आदत होगी रेह नी हुंदा अड़ेया वे,
रोज़ नी मैनु कॉल ते पुछे टाइम नी पहली डेट दा

मुंडा कुडि़यां चिड्डियां वेख दा
रेहंदा अखन सेक्क दा

काली ऐ दुनाली दे विच गाना चले ड्रेक दा
मुन्दर पयी चाँदी दी जेब भारी आ गाँधी दी
खाली खाली रोड तह राती पक्का गेड़ा लेक दा

Post a Comment (0)
Previous Post Next Post