हर घर में रावण बैठा Har Ghar Mein Ravan Baitha

Har Ghar Mein Ravan Baitha Lyrics

हर घर में रावण बैठा

 कलयुग बैठा मार कुंडली

जाऊं तो मैं कहां जाऊं


अब हर घर में रावण बैठा

इतने राम कहां से लाऊं 


दशरथ कौशल्या जैसे

मात पिता अब भी मिल जाये


पर राम सा पुत्र मिले ना

जो आज्ञा ले वन जाये


भरत लखन से भाई

ढूंढ कहाँ अब मैं लाऊँ


अब हर घर में रावण बैठा

इतने राम कहां से लाऊं

कलयुग बैठा मार कुंडली


जिसे समझते हो तुम अपना

जड़े खोदता आज वही


रामायण की बाते जैसे

लगती है सपना कोई


तब थी दासी एक मंथरा

जो में अब घर घर पाऊ


अब हर घर में रावण बैठा

इतने राम कहां से लाऊं

कलयुग बैठा मार कुंडली


आज दास का खेम बना है

मालिक से तकरार करे


सेवा भाव तो दूर रहा

वो वक्त पड़े तो वार करे


हनुमान सा दास आज में

ढूंढ कहा से अब लाऊ


अब हर घर में रावण बैठा

इतने राम कहां से लाऊं

कलयुग बैठा मार कुंडली


रौंद रहे बगिया को देखो

खुद ही उसके रखवाले


अपने घर की नीव खोदते

देखे मेने घर वाले


तब था घर का एक ही भेदी

वही आज घर घर पाऊँ


अब हर घर में रावण बैठा

इतने राम कहां से लाऊं

कलयुग बैठा मार कुंडली


जाऊं तो मैं कहां जाऊं

अब हर घर में रावण बैठा

इतने राम कहां से लाऊं 

Post a Comment (0)
Previous Post Next Post