कलाई थाम कर रखना Kalayi Tham Kar Rakhna

 Kalayi Tham Kar Rakhna Lytrics

कलाई थाम कर रखना 

कलाई थाम कर रखना 

मुसीबत सर पे भारी है


बचाना बचाना हर मुसीबत  से

तुम्हारी जिम्मेदारी है


भरोसा है बहुत तुम पर

भरोसा टूट न जाये


भरोसा है बहुत तुम पर

भरोसा टूट न जाये


जो निकले जो निकले 

आंख से आंसू बदनामी तुम्हारी है


कलाई थाम कर रखना 

मुसीबत सर पे भारी है


न पल भर के लिए हटना 

हमारे साथ ही रहना


धड़कता धड़कता धड़कता दिल मेरा 

धक् धक् बहुत ही बेकरारी है 


कलाई थाम कर रखना 

मुसीबत सर पे भारी है


हवाले कर दी है कश्ती 

चलाओ जैसे तुम चाहो


सौंप दी सौंप दी सौंप दी सौंप दी

डोर हाथों में जिंदगी की हमारी है 


किनारे तक चलो लेकर

अगर पतवार ले ली है


किनारे तक चलो लेकर

अगर पतवार ले ली है


बे धड़क बे धड़क  बे धड़क 

नाओ तूफ़ान में भरोसे से उतरी है


कलाई थाम कर रखना 

मुसीबत सर पे भारी है


बचाना बचाना हर मुसीबत  से

तुम्हारी जिम्मेदारी है



Post a Comment (0)
Previous Post Next Post