कलयुग की वाणी Kalyug Ki Vani

 Kalyug Ki Vani Lyrics

कलयुग की वाणी

हो अति पावन अति पतित सुहानी

कलयुग की ये मधुर कहानी 


ये है कलियुग की वाणी 

भटकेगा हर एक प्राणी


हो जो झूठा सो ऊँचा होगा

सच वाला ही निचा होगा 


ये है कलियुग की वाणी 

भटकेगा हर एक प्राणी


हो करेगा जो जितनी भी बुराई

उसी की होगी जग में बढ़ाई


ये है कलियुग की वाणी 

भटकेगा हर एक प्राणी


हो जिसको भी तुम दोगे सहारा 

बनेगा दुश्मन वही तुम्हारा 


ये है कलियुग की वाणी 

भटकेगा हर एक प्राणी


हो जिसको राह दिखाओगे तुम

चोट उसी से खाओगे तुम 


ये है कलियुग की वाणी 

भटकेगा हर एक प्राणी


हो ज्यादा बक बक न तू करना

परछाई पे भी शक करना 


ये है कलियुग की वाणी 

भटकेगा हर एक प्राणी


हो जो भी तेरे साथ चलेगा

एक न एक दिन घात करेगा 


ये है कलियुग की वाणी 

भटकेगा हर एक प्राणी


हो कोर्ट कचहरी जो जाता है 

कही का न वो रह जाता है 


ये है कलियुग की वाणी 

भटकेगा हर एक प्राणी


हो बिना फैसला मर जाता है 

बिक उसका घरवर जाता है 


ये है कलियुग की वाणी 

भटकेगा हर एक प्राणी


हो खेत न देखा कभी धान का 

चावल बेचे बड़े  ब्रांड का


ये है कलियुग की वाणी 

भटकेगा हर एक प्राणी


हो धुप में कोई करे जुताई 

बैठ छांव कोई करे कमाई 


ये है कलियुग की वाणी 

भटकेगा हर एक प्राणी


हो काली लगती है घरवाली 

फूलझड़ी सबको साली 


ये है कलियुग की वाणी 

भटकेगा हर एक प्राणी


हो चाहे लाख बुरा हो साला 

बहुत बड़ा है किस्मत वाला 


ये है कलियुग की वाणी 

भटकेगा हर एक प्राणी


ये है कलियुग की वाणी 

भटकेगा हर एक प्राणी

Post a Comment (0)
Previous Post Next Post