मैंने जीवन अर्पण कर दिया भगवान के लिए Maine Jeevan Arpan Kar Diya

Maine Jeevan Arpan Kar Diya Lyrics

मैंने जीवन अर्पण कर दिया भगवान के लिए

 जनम लिया इस जग में आई

कुछ पाने के लिए

मैंने जीवन अर्पण कर दिया 

भगवान के लिए 


पांच साल की मैं पढ़न पिटाई

ज्ञान के लिए

मैंने जीवन अर्पण कर दिया 

भगवान के लिए 


सोलह साल की मैं  बहुत कमाई

बाबुल के लिए

मैंने जीवन अर्पण कर दिया 

भगवान के लिए 


जनम लिया इस जग में आई

कुछ पाने के लिए

मैंने जीवन अर्पण कर दिया 

भगवान के लिए 


बीस साल की का व्याह रचाया

साजन के लिए

मैंने जीवन अर्पण कर दिया 

भगवान के लिए 


बाबुल ने मुझे डोली में बिठाया

ससुराल के लिए

मैंने जीवन अर्पण कर दिया 

भगवान के लिए 


सास नन्द मेरे मारे बोली

दहेज़ के लिए

मैंने जीवन अर्पण कर दिया 

भगवान के लिए 


लिख लिख चिठ्ठी बाबुल घर भेजी

बाबुल कोई जातां बता दे मरने के लिए


मैंने जीवन अर्पण कर दिया 

भगवान के लिए 


बेटी हेतु राम राम कर

मुक्ति के लिए


मैंने जीवन अर्पण कर दिया 

भगवान के लिए 

Post a Comment (0)
Previous Post Next Post