मोतियों की लड़ी हूं मैं Motiyon Ki Ladi Hun Main Lyrics

गीत – मोतियों की लड़ी हूं मैं
एल्बम – लोफ़र 1973
गायिका – आशा भोसले
गीतकार: आनंद बख्शी

Motiyon Ki Ladi Hun Main Lyrics

Motiyon Ki Ladi Hun Main Lyrics

मोतियों की लड़ी हूँ मै
फुलवा की छड़ी हूँ मै
रे सुन्दर बड़ी हूँ मै

दुनिया भुलाए अँखियाँ बिछाए
कब से खड़ी हूँ मै
दुनिया भुलाए अँखियाँ बिछाए

कब से खड़ी हूँ मै
मोतियों की लड़ी हूँ मै
फुलवा की छड़ी हूँ मै
रे सुन्दर बड़ी हूँ मै

दुनिया भुलाए अँखियाँ बिछाए
कब से खड़ी हूँ मै

बेचैन हूँ कितनी देर से
बैठा है तू निगाहें क्यों फेर के
ज़रा सा तो मुझे देख छेड़ के

बेचैन हूँ कितनी देर से
बैठा है तू निगाहें क्यों फेर के
ज़रा सा तो मुझे देख छेड़ के

मई भड़क गई तो फिर आग ना बुझेगी
इक फुलझडी हूँ मै
दुनिया भुलाए अँखियाँ बिछाए

कब से खड़ी हूँ मै
मोतियों की लड़ी हूँ मै
फुलवा की छड़ी हूँ मै
रे सुन्दर बड़ी हूँ मै

दुनिया भुलाए अँखियाँ बिछाए
कब से खड़ी हूँ मै

मै कौन हूँ तेरी प्यास हूँ
हुस्न की मई अदा एक ख़ास हुन
आज किस्मत से मै तेरे पास हूँ
मै कौन हूँ तेरी प्यास हूँ

हुस्न की मई अदा एक ख़ास हुन
आज किस्मत से मै तेरे पास हूँ
मई निकल गई तो
फिर हाथ नहीं आऊंगी
ऐसी घडी हूँ मै

दुनिया भुलाए अँखियाँ बिछाए
कब से खड़ी हूँ मै
मोतियों की लड़ी हूँ मै
फुलवा की छड़ी हूँ मै
रे सुन्दर बड़ी हूँ मै

दुनिया भुलाए अँखियाँ बिछाए
कब से खड़ी हूँ मै
दुनिया भुलाए अँखियाँ बिछाए
कब से खड़ी हूँ मै.

Post a Comment (0)
Previous Post Next Post