राधे शाम से मिला दे Radhe Sham Se Mila De

 Radhe Sham Se Mila De Lyrics

 राधे शाम  से मिला दे  

 राधे शाम  से मिला दे  

शाम से मिलावा  दे 

राधे शाम मिला  दे 

शाम से मिलावा  दे 


तुझे ढूंढो मैं सुभो शाम

और मेरे घन  शाम

क्यों अब तक आये नहीं 

तेरी भोली सुरतिया देखे बिना

कुछ भाए नहीं 


तेरी भोली सुरतिया देखे बिना

कुछ भाए नहीं 

राधे राधे राधे  राधे 

श्याम  मिला  दे 

राधे राधे राधे  राधे 

शाम के रंग रंगवा दे


राधे राधे राधे  राधे 

श्याम  मिला  दे 

राधे राधे राधे  राधे 

शाम के रंग रंगवा दे


ओ बदरा बिन प्यासी धरती 

यों नभ की और निहारे 

ओ बदरा बिन प्यासी धरती 

यों नभ की और निहारे 


नभ की और निहारे कान्हा 

नभ की और निहारे 

ओ ऐसे ही व्याकुल नैना

हर पल बस तुझको पुकारें 

हर पल बस तुझको पुकारें 

हर पल बस तुझको पुकारें 


ओ बदरा बिन प्यासी धरती 

यों नभ की और निहारे 

ऐसे ही व्याकुल नैना

हर पल बस तुझको पुकारें 


तेरे चरणों में चारो धाम

कन्हाई रे

ताकूँ पंथ तेरा अविराम

ओ मेरे घन श्याम

 

क्यों अब तक आये नहीं 

तेरी भोली सुरतिया देखे बिना

कुछ भाए नहीं 


राधे राधे राधे  राधे बोल योगी 

राधे राधे राधे  राधे  बोल मनवा 


शाम तुझे कैसे मनाऊं मैं

राह में पलके विछाऊं मैं 

ओह रे बनवारी तुन है छलिया

तुझको खोजूं तो खो जाऊं मैं


ओ यही सरल एक राह मैं पाऊं 

रधा रानी से सनेह लगाऊं 

शाम की धुन में राधे को ध्याऊँ 


राधे राधे राधे  राधे बोल योगी 

राधे राधे राधे  राधे  बोल मनवा 

राधे राधे राधे  राधे शाम मिला  दे 

राधे राधे शाम के रंग रंगवा दे

Post a Comment (0)
Previous Post Next Post