साँसों का क्या भरोसा Sanso Ka Kya Bharosa

Sanso Ka Kya Bharosa Lyrics

 साँसों का क्या भरोसा

 साँसों का क्या भरोसा

रुक जाए चलते चलते

जीवन की है जो ज्योति

बुझ जाए जलते जलते

साँसो का क्या भरोसा

रुक जाए चलते चलते


जीवन है चार दिन का

जीवन है चार दिन का

दो दिन की है जवानी

दो दिन की है जवानी


जब आएगा बुढ़ापा

जब आएगा बुढ़ापा

थक जाए चलते चलते

साँसो का क्या भरोसा

रुक जाए चलते चलते


समझा ना तू इशारा

समझा ना तू इशारा

समझा ना खेल इसका

समझा ना खेल इसका


क्यों तेरी बात बिगड़ी

क्यों तेरी बात बिगड़ी

हर बार बनते बनते

साँसो का क्या भरोसा

रुक जाए चलते चलते


तेरे साथ जाए रजनी

तेरे साथ जाए रजनी

तेरे कर्मो की कमाई

तेरे कर्मो की कमाई


गए जग से बादशाह भी

गए जग से बादशाह भी

यूँही हाथ मलते मलते


साँसो का क्या भरोसा

रुक जाए चलते चलते


अब तक किया ना तूने   

अब तो हरी सुमिर ले

अब तक किया ना तूने   

अब तो हरी सुमिर ले


कहती है जिंदगी की

कहती है जिंदगी की

ये शाम ढलते ढलते

साँसो का क्या भरोसा

रुक जाए चलते चलते


साँसों का क्या भरोसा

रुक जाए चलते चलते

जीवन की है जो ज्योति


बुझ जाए जलते जलते

साँसो का क्या भरोसा

रुक जाए चलते चलते

Post a Comment (0)
Previous Post Next Post