Udta Udta Lyrics Jubin Nautiyal

Udta Udta Lyrics By Jubin Nautiyal

उड़ता उड़ता

तेरी मेरी नज़दीकिया
कब दिल को बहलाने लगी
देख के तुझको दिल न रहा मेरा
शाम को छत्त पर आना तेरा
सूरज को जैसे बहाना तेरा
नज़दीकियों की मज़बूरी में
दिल था

उड़ता उड़ता चला
मुड़ता मुड़ता चला
ज़ुल्फ़ों की छाओं में
तेरी ज़ुल्फ़ों Ki छाओं में
मैं गाओं इन फ़िज़ाओं में
तेरी ज़ुल्फ़ों की चयन में

मानों तुम यह न तुम मानों
जनों तुम यह न तुम जनों
सुन्दर तुमसे कोई नहीं देखा
सूरज भी समझे इशारे तेरे
नज़दीकियों के बहाने तेरे
तेरे ही नूर की गहरायी में
दिल था

उड़ता उड़ता चला
मुड़ता मुड़ता चला
ज़ुल्फ़ों की चयन में
तेरी ज़ुल्फ़ों की छाओं में
मैं गाँव इन फ़िज़ाओं में
तेरी ज़ुल्फ़ों की चयन में

तू कोल मेरे बेजा
आ गिनले तू सितारे
न साथ अपना छूटें
यह हौसला बना लें

तू कोल मेरे बेजा
आ गिनले तू सितारे
न साथ अपना छूटें
यह हौसला बना लें

Post a Comment (0)
Previous Post Next Post