ये शाम मस्तानी Yeh Shaam Mastani Lyrics

Yeh Shaam Mastani Lyrics written by Anand Bakshi from Kati Patang 1970. Song Yeh Shaam Mastani sung by is Kishore Kumar. while Music composed by Rahul Dev Burman.

Yeh Shaam Mastani Lyrics

ये शाम मस्तानी
मदहोश किये जाये

मुझे डोर कोई खींचे
तेरी और लिए जाए

ये शाम मस्तानी
मदहोश किये जाये

मुझे डोर कोई खींचे
तेरी और लिए जाए

दूर रहती है तू
मेरे पास आती नहीं

होठों पे तेरे कभी
प्यास आती नहीं

ऐसा लगे जैसे कि तू
हँसके ज़हर कोई पिए जाए

ये शाम मस्तानी
मदहोश किये जाये

मुझे डोर कोई खींचे
तेरी और लिए जाए

बात जब मैं करूँ
मुझे रोक देती है क्यों

तेरी मीठी नज़र मुझे
टोक देती है क्यों

तेरी हया तेरी शर्म
तेरी क़सम मेरे
होंठ सिये जाए

ये शाम मस्तानी
मदहोश किये जाये

मुझे डोर कोई खींचे
तेरी और लिए जाए

एक रूठी हुई तक़दीर जैसे कोई
खामोश ऐसे है

तू तस्वीर जैसे कोई
तेरी नज़र बनके
जुबां लेकिन तेरे
पैगाम दिए जाए

ये शाम मस्तानी
मदहोश किये जाये

मुझे डोर कोई खींचे
तेरी और लिए जाए

ये शाम मस्तानी
मदहोश किये जाये

मुझे डोर कोई खींचे
तेरी और लिए जाए

Post a Comment (0)
Previous Post Next Post