आज वन से अवध आ रहे हैं प्रभु Aaj Van Se Awadh Aa Rahe Hain Prabhu

Aaj Van Se Awadh Aa Rahe Hain Prabhu Lyrics

आज वन से अवध आ रहे हैं प्रभु

 बांटो बांटो मिठाई मनाओ ख़ुशी

मुंह मीठा कराओ अवधवासियों


आज वन से अवध आ रहे हैं  प्रभु

दिप माला सजाओ अवधवासियों

बाँटो बाँटो मिठाई मनाओ ख़ुशी


आ रहे राम रावण का संहार कर

पापी असुरो से धरती का उद्धार कर


काली कजरारी रजनी अमावस्या की

इसे रोशन बनाओ अवधवासियों

बाँटो बाँटो मिठाई मनाओ ख़ुशी


माता सीता सहित श्री लखन जामवंत

वीर हनुमान सुग्रीव अंगद के संग


बोध लंकापति श्री विभीषण को भी

अपने पन का कराओ अवधवासियों

बाँटो बाँटो मिठाई मनाओ ख़ुशी


आ रहा राम का राज्य गूंजे ये स्वर

झूमे ‘कुलदीप’ सरयू की पावन लहर


पुष्प वर्षा करे देव देवेंद्र’ संग

धरती माँ को सजाओ अवधवासियों

बाँटो बाँटो मिठाई मनाओ ख़ुशी


बांटो बांटो मिठाई मनाओ ख़ुशी

मुंह मीठा कराओ अवधवासियों


आज वन से अवध आ रहे हैं प्रभु

दिप माला सजाओ अवधवासियों

बाँटो बाँटो मिठाई मनाओ ख़ुशी

Post a Comment (0)
Previous Post Next Post