ओ दशरथ के लाला O Dashrath Ke Lala

 O Dashrath Ke Lala Lyrics

ओ दशरथ के लाला

दीन हैं हम तुम दीन दयाला 

ओ दशरथ के लाला

ओ दशरथ के लाला


दीन हैं हम तुम दीन दयाला 

ओ दशरथ के लाला

ओ दशरथ के लाला


जो प्यारा हो नाथ तुम्हारा

वो जग में हो सबका दुलारा 


जो प्यारा हो नाथ तुम्हारा

वो जग में हो सबका दुलारा 


अँधियारा दिखे उसको उजाला

ओ दशरथ के लाला


दीन हैं हम तुम दीन दयाला 

ओ दशरथ के लाला


पल में कष्ट मिटे जीवन का

काया कलप हो अंतर् मन का


पल में कष्ट मिटे जीवन का

काया कलप हो अंतर् मन का


जपे जो तेरे नाम की माला

ओ दशरथ के लाला


दीन हैं हम तुम दीन दयाला 

ओ दशरथ के लाला


तुझमे है तीनो लोक समय

कण कण में प्रभु तेरी ही माया


तुझमे है तीनो लोक समय

कण कण में प्रभु तेरी ही माया


तूं  है जगत को चलने वाला

ओ दशरथ के लाला


दीन हैं हम तुम दीन दयाला 

ओ दशरथ के लाला


निर्गुण सगुन तुम ही है ईश्वर 

बाकि सब जग सारा नश्वर 


निर्गुण सगुन तुम ही है ईश्वर 

बाकि सब जग सारा नश्वर 


पल पल दे सदा तेरा हवाला

ओ दशरथ के लाला


पल पल दे सदा तेरा हवाला

ओ दशरथ के लाला


माटी की मूरत हम है विधाता

माया से अपने तूं प्राण बसाता 


जीवन ज्योति जगाने वाला

ओ दशरथ के लाला


एक हो तुम रूप अनेका

लिखते हो सबके कर्म का लेखा


विघ्न तेरा हर काम निराला 

ओ दशरत के लाला


भाव सागर से तूं सबको उबरे

जनम जनम के पाप निवारे 


दया का सागर नाथ किरपाला

ओ दशरथ के लाला


तेरी शरण जो भी है अत 

बिन मांगे सब कुछ पा जाता

 

सुख दुःख तूं ही बाँटने वाला

ओ दशरथ के लाला 


हम दुखिओं के तुम आधार हो

जीवन की सांसों के पार हो


भूखों को देता मुख का निवाला

ओ दशरथ के लाला


पाप से धरती जब घबराये

शन में ले अवतार मिटाये 


पाप से धरती जब घबराये

शन में ले अवतार मिटाये 


ले अवतार प्रभु तुम आए

बांके राम मुरली वाला


Post a Comment (0)
Previous Post Next Post